☰ Main Menu

मरीन इन्शुरन्स पॉलिसी क्या है ? जानिए सब कुछ जो आपको समुद्री बीमा के बारे में जानना चाहिए

समुद्र के रास्ते बड़े बड़े जहाजों से सामानों आवाजाही किया जाता है, ऐसी स्थिति में जहाजों के मालिकों को कई तरह के समुद्री खतरों का सामना करना परता है और अगर किसी कारणवस उनके जहाज के सामानों को या उनके जहाज को कोई क्षति पहुँचता है तो जहाजों के मालिकों को भारीभरकम नुकसान का सामना करना पड़ता है जो की काफी कठिन हो जाता है।
Know Everything About Marine Insurance in Hindi
इस स्थिति में जहाजों के मालिकों को सुरक्षा प्रदान करने के लिए यह मरीन इन्शुरन्स (समुद्री बीमा) सहायता प्रदान करती है। यह इन्शुरन्स समुद्री परिवहन के दौरान होने वाले क्षति से नुकसानों की भरपाई करता है और जहाज मालकों को सुरक्षा देती है। चलिए मरीन इन्शुरन्स (समुद्री बीमा) के बारे में सब कुछ जान लेते है।

मरीन इन्शुरन्स क्या है ? What is Marine Insurance ?

मरीन इन्शुरन्स जिसे समुद्री बीमा के नाम से जाना जाता है जो की समुद्र में होने वाले नुकसानों का भरपाई करता है। समुद्र में जहाजों में स्थित सामानों या जहाजों की हानि, मालवाहक जहाजों, टर्मिनलों और परिवहन के दौरान होने वाले नुकसानों को सुरक्षित किया जाता है। समुद्र में हर दिन जहाजों से सामानों का आवागमन होता रहता है जो की एक जगह से दूसरे जगह पहुंचाया जाता ऐसी स्थिति में कई तरह के नुकसान हो जाते है इसी के लिए समुद्र में परिवहन के दौरान होने वाले नुकसानों की भरपाई हेतु यह मरीन इन्शुरन्स काम आता है।

वैसे तो समुद्री परिवहन हेतु सुरक्षा के कई और कठिन नियम बनाये गए है लेकिन प्रकितिक घटनाओं का किसी तरह का नियंत्रण नहीं किया जा सकता और इस कारण किसी भी तरह का नुकसान होना स्वावाविक होता है। प्रकिति के कारन होने वाले नुकसान, सीमा पर होने वाले संघर्ष के घटनाओं के कारण, समुद्री डाकू के लूटमार व मुठभेड़ जैसे घटनाओं के कारण बहुत ज्यादा नुकसान जहाजों के मालिकों को होता है और इससे उबरने के लिए बड़े पैमाने पर आर्थिक स्थिति खराब हो जाती है। इसी के चलते समुद्री परिवहन हेतु सुरक्षा के सभी नियमों का पालन करते हुए मरीन इन्शुरन्स होने वाले नुकसानों के भरपाई हेतु जहाज मालिकों को सहायता प्रदान करती है।

सभी समुद्री बीमा / मरीन इन्शुरन्स एक जैसा नहीं होता और सबका सुरक्षा अलग अलग होता है। समुद्र में कई तरह के परिवहन होता है सबका काम अलग होता है इसी प्रकार मरीन इन्शुरन्स के अलग-अलग कवरेज वाले प्लान होते है। कोई भी जहाजों के मालिक अपने काम के अनुसार पाए जाने वाले कवरेज के अनुसार मरीन इन्शुरन्स ले सकते है। इस इन्शुरन्स में परिवहन के मार्ग, परिवहन के सामान, जहाजों जैसे चीजों पर कई नियम भी है और कवरेज के नियम भी है बीमा एजेंट अच्छी तहर समझा देते है।

मरीन इन्शुरन्स पॉलिसी की विशेषताएं :

मरीन इन्शुरन्स एक खुली हुई नियमों वाले पॉलिसी है, इसके पॉलिसी अंतर्देशीय कवरेज वाले होते है। हर पॉलिसी का एक निश्चित अवधि होते है, ज्यादातर पॉलिसी अवधि एक वर्ष तक होते है जो समुद्री परिवहन में एक जगह से दूसरे जगह तक ले जाने वाले सामानों को कवरेज प्रदान करते है।

यह भी देखिये : कोरोनावायरस इन्शुरन्स क्या है ?

व्यापक सुरक्षा पॉलिसी : इस इन्शुरन्स पॉलिसी में विभिन्न तरह के क्षति के भरपाई हेतु बहुत व्यापक कवरेज दिया जाता है। इस पॉलिसी में सभी तरह के नुकसान शामिल है जैसे सामानों की सम्पूर्ण नुकसान, सामानों का आंशिक नुकसान, अन्य क्षति व खर्चों की भी कवरेज किया जाता है। इसमें समुद्र में होने वाले नुकसानों को ध्यान में रखते हुए बनाया जाता है और इसका सुरक्षा भी काफी बड़ा होता है।

अनुकूलन सुरक्षा पॉलिसी : यह पॉलीसी अपने अनुकूल लिया जा सकता है यह व्यवसाय के ऊपर निर्भर करता है और जहाजों के मालिक अपने आवश्यकता के अनुसार इन पॉलिसी का चयन कर सकते है। इस पॉलिसी के अंतर्गत बहुत सी बिकल्प दिए जाते है जो की अलग अलग होने वाले समुद्री नुकसानों को कवर करता है। किसी भी समुद्री व्ववसाय के लिए उचित पॉलिसी चयन हेतु पॉलिसी एजेंट मदद करते है।

किन कारणों से कम्पनियाँ कवर नहीं करती ?

इन्शुरन्स पॉलिसी अपने नियम बहुत ही सोच समझकर रखे है और इसके अनुसार सभी नियमों का सही तरीके से पालन करना अनिवार्य है क्यूंकि एक मामूली सी उल्लंघन होने पर इन्शुरन्स के सभी दावें अस्वीकार किया जा सकता है। अगर आप इन्शुरन्स पॉलिसी के दिशानिर्देशों का पालन करते हुए कवरेज हेतु क्लेम करते सभी नुकसानों को ध्यान से जांचकर दावों को आगे बढ़ाया जाता है। हालाकि मरीन इन्शुरन्स पॉलिसी बिशाल सुरक्षा प्रदान करती है, लेकिन उनके नियमों का पालन न होने पर पॉलिसी कवरेज को वहिष्कार किया जा सकता है। ऐसे कौन से कारण है जिससे कवरेज नहीं मिल सकता....
• जानबूझकर कर की गयी लापरवाही के कारण हुआ नुकसान।
• गलत और सही तरीके से पैकेजिंग न किये जाने के कारण हुआ नुकसान।
• हानिकारक दूषित रेडिओएक्टिव किरणों  कारण हुआ नुकसान।
• नागरिकों द्वारा हिंसा, हड़ताल, दंगे कारण हुआ नुकसान।
• अन्य कारणों से हुआ नुकसान जो जाँच का विषय हो। जाँच के बाद फैसला दिया जाता है।

अंतिम निष्कर्ष :

वैसे तो मरीन इन्शुरन्स पॉलिसी काफी विस्तारित होते है और काफी बड़े पैमाने पर होते है और समुद्र में होने वाले क्षति व नुकशान भी काफी बड़े होते है जो जहाज के मलिकों को आर्थिक दृस्टि से काफी नुकसान पहुँचाते है। इसके लिए मरीन इन्शुरन्स पॉलिसी जरुरी होता है जो नुकसानों को सुरक्षा प्रदान करती है। भारत में अभी के समय में कई मरीन इन्शुरन्स पॉलिसी चालू है जिसकी जानकारी पॉलिसी एजेंट के द्वारा दिया जाता है। चूँकि इसमें आवश्यकता अनुसार भी पॉलिसी तैयार किया जा सकता है इससे मरीन इन्शुरन्स पॉलिसी लेने वालों को काफी सहूलियत होती है। इस मरीन इन्शुरन्स पॉलिसी के बारे में अपने पॉलिसी एजेंट से जानकारी ले सकते है।

• जीवन के ये 4 प्रमुख बीमाएँ, जिसके बारे में सबको जानना बहुत जरुरी है
• जीरो डेप्रिसिएशन कार इन्शुरन्स का फायदा क्या है ? क्यों लें जीरो डेप्रिसिएशन कार इन्शुरन्स ?
आपको होम इन्शुरन्स की कितनी आवश्यकता है ? जानिए

What is Marine Insurance ? Who Need This Insurance ? Let's See Everything You Need to Know About Marine Insurance.
Festivals Date Time
Made with in India.
Thank you for Using Festivals Date Time Website.