☰ Main Menu
Support Us Contact Us Sponsor
January February March April May June July August September October November December

2019 मासिक प्रदोष व्रत पूजा तारीख व समय, 2019 मासिक प्रदोष व्रत त्यौहार समय सूची व कैलेंडर

2019 प्रदोष व्रत पूजा तारीख व समय, 2019 प्रदोष व्रत त्यौहार समय सूची व कैलेंडर
2019 प्रदोष व्रत पूजा तारीख व समय, 2019 प्रदोष व्रत त्यौहार समय सूची व कैलेंडर

प्रदोष व्रत में भगवान शिव की उपासना की जाती है | यह व्रत हिंदू धर्म के सबसे शुभ व महत्वपूर्ण व्रतों में से एक है | हिंदू चंद्र कैलेंडर के अनुसार प्रदोष व्रत चंद्र मास के 13 वें दिन (त्रयोदशी) पर रखा जाता है | हर महीने की दोनों पक्षों की त्रयोदशी तिथि को प्रदोष व्रत रखा जाता है। अलग-अलग दिन पड़ने वाले प्रदोष की महिमा अलग-अलग होती है। सोमवार का प्रदोष, मंगलवार को आने वाला प्रदोष और अन्य वार को आने वाला प्रदोष सभी का महत्व और लाभ अलग अलग है।

प्रदोष व्रत पूजा 2019 के तारीख व कैलेंडर:

त्यौहार के नाम दिन त्यौहार के तारीख
प्रदोष व्रत गुरूवार 3 जनवरी 2019
प्रदोष व्रत शनिवार 19 जनवरी 2019
प्रदोष व्रत शनिवार 2 फरवरी 2019
प्रदोष व्रत रविवार 17 फरवरी 2019
प्रदोष व्रत रविवार 3 मार्च 2019
प्रदोष व्रत सोमवार 18 मार्च 2019
प्रदोष व्रत मंगलवार 2 अप्रैल 2019
प्रदोष व्रत बुधवार 17 अप्रैल 2019
प्रदोष व्रत गुरूवार 2 मई 2019
प्रदोष व्रत गुरूवार 16 मई 2019
प्रदोष व्रत शुक्रवार 31 मई 2019
प्रदोष व्रत शुक्रवार 14 जून 2019
प्रदोष व्रत रविवार 30 जून 2019
प्रदोष व्रत रविवार 14 जुलाई 2019
प्रदोष व्रत सोमवार 29 जुलाई 2019
प्रदोष व्रत सोमवार 12 अगस्त 2019
प्रदोष व्रत बुधवार 28 अगस्त 2019
प्रदोष व्रत बुधवार 11 सितंबर 2019
प्रदोष व्रत गुरूवार 26 सितंबर 2019
प्रदोष व्रत शुक्रवार 11 अक्टूबर 2019
प्रदोष व्रत शनिवार 26 अक्टूबर 2019
प्रदोष व्रत शनिवार 9 नवंबर 2019
प्रदोष व्रत रविवार 24 नवंबर 2019
प्रदोष व्रत सोमवार 9 दिसंबर 2019
प्रदोष व्रत सोमवार 23 दिसंबर 2019

प्रमोशम के दिन सूर्योदय और सूर्यास्त से पहले के समय को शुभ माना जाता है। इस समय के दौरान ही सभी सारी पूजा पाठ किये जाते है। इस व्रत को वार के अनुसार करने से ज्‍यादा लाभ मिलता है। जिस वार को यह व्रत पड़ता है उसी अनुसार कथा पढ़ने से फल भी प्राप्‍त होते हैं। हिन्दू कैलेंडर के अनुसार शिव जी की पूजा का सही समय शाम का है, जब मंदिरों में प्रदोषम मंत्र का जाप किया जाता है। यदि प्रदोष व्रत शनिवार को पड़ रहा है तो इस व्रत को करने से पुत्र की प्राप्‍ती होगी।  यदि व्‍यक्‍ति को सभी प्रकार की पूजा पाठ और व्रत करने के बाद भी सुख शांति और खुशी नहीं मिल पा रही है तो उस व्‍यक्‍ति को हर माह पड़ने वाले प्रदोष व्रत पर जप, दान, व्रत आदि करने से पूरा फल मिलता है।

2019 भगवान शिव जी के शायरी, वॉलपेपर व फोटो डाउनलोड करें →

Made with in India.
Thank you for Using Festivals Date Time Website.